अमीरपरस्त बुद्धिजीवियों के कोरस में शामिल हो गए मोदीजी!

Lal Bahadur Singh

मोदीजी, किसानों से यह धोखाधड़ी कब तक?

कारपोरेट घरानों के लाखों करोड़ क़र्ज़ माफ़ करने वाले मोदीजी ने अमीरपरस्त बुद्धिजीवियों के कोरस में शामिल होते हुए कल कहा कि किसानों की कर्जमाफी lollipop है, धोखा है !

मजेदार यह है कि यह उन्होंने उत्तर प्रदेश (गाज़ीपुर) की धरती पर कहा।

फिर आपने उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में कर्जमाफी क्यों किया था?

शायद, वोट बटोरने के अपने उस फ्रॉड से ही आपको यह ब्रह्मज्ञान प्राप्त हुआ है?

या फिर कर्ज़मुक्ति की किसानों की लोकप्रिय मांग को पीछे धकेलने और वित्तीय प्रभुओं की सेवा के लिए यह एक और शातिर जुमलेबाजी है!

आपने सही फ़रमाया की कांग्रेस ने स्वामीनाथन आयोग की लागत का ड्योढ़ा दाम देने की फाइल को दफ़्न कर दिया था। लेकिन आपने तो उनका भी कान काट लिया, किसानों को बिना दिए ही ढिंढोरा पिटवा दिया की दे दिया, दे दिया!

मोदीजी किसानों से यह धोखाधड़ी कब तक?

अंत निकट है, यह तो प्रायश्चित की बेला है!

xxx

वीर बिरसा मुंडा की शहादत के 118 साल बाद और शौर्यपूर्ण संथाल विद्रोह के 160 साल बाद भी , शहीद बिरसा का ज़मीदारों, सूदखोरों- महाजनों, नौकरशाहों, “दिकुओं”, विदेशियों के शिकंजे से मुक्त “मुंडा राज” बनाने का, आदिवासी किसानों को जमीन का मालिक बनाने का सपना आज भी अधूरा है !

उनके जल-जंगल-जमीन पर कब्जे के लिए देशी-विदेशी कारपोरेट “दिकुओं” और उनकी पैरोकार सत्ता का बर्बर दमन जारी है !

ईसाइयत के खिलाफ संघ के हिंदुत्वकरण अभियान से न उन्हें सच्ची मुक्ति मिली, न अराजनैतिक सशस्त्र संघर्ष से, न झारखण्ड-छत्तीसगढ़ बनाकर elite को सत्ता में हिस्सेदारी देने से !

किसान-मजदूर राज के लिए जद्दोजेहद और उसकी स्थापना ही वीर बिरसा को सच्ची श्रद्धांजलि होगी !

#शीरोज बतकही, आज बिरसा मुंडा, शाम 5.30 बजे

एक जमाने के चर्चित छात्र नेता रहे कामरेड लाल बहादुर सिंह की एफबी वॉल से.

भक्त

View all posts

Add comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Connect With Us

Advertisement