राजबब्बर जैसे आमजन से कटे आदमी प्रदेश अध्यक्ष बने रहें तो यूपी में कांग्रेस का अल्लाह ही मालिक है!

Ramendra Jenwar : काँग्रेस की हड़बड़ाहट अब यूपी में दिखाई दे रही है. आज प्रदेश भर के लोगों की मीटिंग बुलाई गयी है. होगा क्या? नेता दिन भर मंच से भाषण झाड़ेंगे. कार्यकर्ता सुनेगा और मूँगफली टूंगेगा. कुछ ऐसे लोगों को प्रायोजित करके बुलवाया जाएगा जो काँग्रेस के अपने दम पर लड़ने की पैरवी करेंगे. उसके बाद प्रेस कांफ्रेंस में नेता मन मेँ चोर लिए बडी बडी बातें छौंकेंगे. रात तक राहुल को रिपोर्ट पहुँच जाएगी कि सब ठीक है कार्यकर्ताओं को निर्देश दे दिए गए हैं…तेजी से काम शुरू हो गया है.

गाँवों में आपका कार्यकर्ता बचा नहीं है. बूथ कमेटियां नब्बे प्रतिशत फर्जी हैं. 5 सालों में कोई काम या कार्यक्रम किया नहीं गया है जो नया वर्कर जोड़ सके. मठाधीशी चल रही है. प्रदेश अध्यक्ष तीन सालों में प्रदेश के सभी जिलों मे गए नहीं है. संगठन के चुनाव के नाटक के बाद भी नये जिलाध्यक्ष बनाए नहीं गए हैं.

ऐसे में आप क्या उम्मीद करते हैँ और क्या कर पाएगी काँग्रेस? यूपी को बिना सुधारे केन्द्र में बाधारहित आगमन संभव नहीं लगता. जब कि काँग्रेस के बरक्स सपा-बसपा गठबंधन पहली नजर में ही भारी लगता है. 2014 के चुनाव में सपा-बसपा के वोट जोड कर देखा जाए तो अधिकांश सीटों पर भाजपा पर भारी दिख रहे हैँ जिसकी 2014 में लहर थी. काँग्रेस की तो बात ही छोड़िए.. राजबब्बर जैसे आमजन से कटे आदमी को प्रदेश अध्यक्ष बनाना काँग्रेस को ज्यादा भारी पड़ गया और अगर चुनाव तक बनाए रखा तब तो यूपी में काँग्रेस का अल्लाह ही मालिक है..

रही बात मप्र में जीत की तो एमपी और यूपी में फर्क है… यूपी में सपा-बसपा मध्यप्रदेश की अपेक्षा बड़े जनाधार वाली पार्टियाँ है… अपने दम पर लड़ना बहुत अच्छा है लेकिन उसकी पहले से तैयारी भी चाहिए…..कोई जादू नहीं है राहुल के पास भी….

यूपी के कांग्रेस नेता रामेंद्र की एफबी वॉल से.

भक्त

View all posts

Add comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Connect With Us

Advertisement